Sunday, January 14, 2024
Latest:
चंडीगढ़देश-विदेशपानीपतहरियाणा

सत्तारूढ़ भाजपा निगम परिणामों के बाद हरियाणा के केंद्र के साथ चुनाव कराने का फरमान कर सकती है जारी!

राणा ओबराय
राष्ट्रीय खोज/भारतीय न्यूज़,
,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
सत्तारूढ़ भाजपा निगम परिणामों के बाद हरियाणा के केंद्र के साथ चुनाव कराने का फरमान कर सकती है जारी!
,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
चंडीगढ़ :- हरियाणा के 5 शहरों में होने वाले नगरनिगम चुनाव से सभी राजनीतिक दलों को अपनी अपनी ताकत और आने वाले विधानसभा चुनाव के परिणाम का अनुमान लग जाएगा। राजनीतिक विद्वानों का मानना है कि नगरनिगम और नगर परिषद के होने वाले चुनाव विधानसभा चुनाव का एक ट्रेलर है। इसीलिए सभी सियासी दल इन चुनाव को जीतने के लिए एड़ी चोटी का जोर लगा देंगे।यह भी मानना है कि बहुत से दिग्गज नेता एक दूसरे की पार्टी को झटका देते हुए इधर से उधर भागेगे। क्योंकि जो लोग स्वार्थ की राजनीति करते हैं वह अपने स्वार्थ के लिए राजनीतिक पार्टियां बदलते रहते हैं। पिछले विधानसभा चुनाव में हरियाणा में भाजपा पार्टी दूसरे दलों के नेताओं को तोड़कर अपने पार्टी में मिलाने के बाद और उनको टिकट देकर सत्ता में आयी थी। इसी कारण जो भाजपा का कैडर बेस कार्यकर्ता था वह भाजपा संगठन से अंदर ही अंदर दूर होता चला गया।यदि सूत्रो की माने तो हो सकता है इन नगर निगम चुनाव में भाजपा संगठन में अपमानित हुआ कार्यकर्ता ही गले की फांस न बन जाए। क्या यह कार्यकर्ता निगम चुनाव में भाजपा को विजय दिलाएगा या भाजपा को ही हराने के लिए कार्य करेगा! भाजपा कार्यकर्ताओं का मानना है कि खट्टर सरकार मे बेठे भ्रष्टाचारी अधिकारीयो ने ही कब्जा कर लिया हुआ है। इसी कारण न तो कार्यकर्ताओं के काम होते हैं और न ही उनको सरकार में इज्ज्त मिलती है। बल्कि दूसरे दलों से आए हुए लोगों के ही कार्य हो रहे हैं। राजनीतिक विद्वानों की मानें तो भाजपा पार्टी के लिए नगरनिगम और नगरपरिषद के चुनाव ही आने वाले विधानसभा चुनाव के लिए दशा और दिशा निर्धारित करेंगे। जिस तरह से सभी राजनीतिक दलो के लोग अपनी अपनी जीत का दावा करने पर लगे हुए हैं।उसी तरह सत्तारूढ़ भाजपा भी अपने आपको विजयी मानने में अपने आप को किसी से कम नहीं मानती है । परंतु नगरनिगम चुनाव के नतीजे बेहद चौंकाने वाले होंगे! और हो सकता है सरकार निगम परिणामों के तुरंत बाद हरियाणा सरकार केंद्र सरकार के साथ ही चुनाव कराने का फरमान जारी ना कर दे! क्योंकि भाजपा की हालत और नरेंद्र मोदी का रुतबा पहले की तरह नजर नहीं आ रहा है!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!