Saturday, January 20, 2024
Latest:
चंडीगढ़देश-विदेशपंचकुलापंजाबराज्यहरियाणा

विधानसभा मे हरियाणा के संसदीय कार्यमंत्री राम बिलास शर्मा के स्व अटल जी को श्रधांजलि देने के समय पूरा सदन भावविभोर हो गया*

राणा ओबराय
राष्ट्रीय खोज/भारतीय न्यूज़,
,,,,,,,,,,,,,,,,,
विधानसभा मे हरियाणा के संसदीय कार्यमंत्री राम बिलास शर्मा के स्व अटल जी को श्रधांजलि देने के समय पूरा सदन भावविभोर हो गया*  

,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
चंडीगढ़ ;- हरियाणा संसदीय कार्यमंत्री राम बिलास शर्मा आज हरियाणा विधानसभा के मानसून सत्र के प्रथम दिन पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी व अन्य दिवंगत आत्माओं को श्रद्घांजलि अर्पित कर रहे थे।
उन्होंने सदन में वाजपेयी जी के जीवन से जुड़े विभिन्न संस्मरणों को विस्तार से सुनाया। उन्होंने भारत की विदेश नीति के प्रति वाजपेयी के दृष्टिïकोण के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि वे सरकार में हो या विपक्ष में, हमेशा अपने देश की एकता व अखंडता के पक्षधर रहे। उन्होंने वर्ष 1995 के दौरान का एक दृष्टïांत सुनाया और बताया कि एक अंतर्राष्टï्रीय सम्मेलन में पाकिस्तान की तत्कालीन प्रधानमंत्री बेनजीर भुट्टïो ने कश्मीर में लोगों के उत्पीडऩ का आरोप लगाया तो भारत की ओर से प्रतिनिधि के तौर पर गए श्री अटल बिहारी वाजपेयी ने कहा था कि वर्ष 1947 में स्वतंत्रता के समय भारत में मुसलमान 2.5 करोड़ थे जो अब 16 करोड़ हो गए हैं लेकिन पाकिस्तान में उस वक्त हिंदू 87 लाख थे जिनकी संख्या अब केवल 17 लाख रह गई है, इसलिए बेनजीर जवाब दें कि उत्पीडऩ कहां हो रहा है? उन्होंने वाजपेयी को देश का लोकप्रिय व्यक्तित्व और राजनीति का युगपुरूष बताते हुए कहा कि विपक्ष के लोग भी उनके मुरीद थे। उन्होंने बताया कि जब उनकी ‘मेरी इक्यावन कविताएं’ नामक पुस्तक का विमोचन होने का कार्यक्रम था तो तत्कालीन प्रधानमंत्री श्री पी.वी नरसिम्हा राव को निमंत्रण नहीं मिला, इसके बावजूद भी नरसिम्हा राव उस कार्यक्रम में पहुंचे और तीन घंटे तक वहां उपस्थित रहे और इस बात की बाद में कांग्रेस कोर कमेटी की बैठक में राव की आलोचना भी हुई लेकिन ये वाजपेयी जी का ही उच्च व्यक्तित्व था जो नरसिम्हा राव को उस कार्यक्रम में अपने आप खींच कर ले गया। श्री शर्मा ने बताया कि वाजपेयी जी ने विपक्ष में रहते हुए भी युद्घ के दौरान तत्कालीन प्रधानमंत्री स्व. इंदिरा गांधी को पूरा समर्थन दिया था और कहा था, ‘दुर्गा बनकर लड़ो’। वाजपेयी जी ने अपनी पार्टी की कार्यसमिति की बैठक में भी कहा था, ‘ जब देश के सामने युद्घ खड़ा होता है तो प्रधानमंत्री देश का नेतृत्व करता है,सबको उनके साथ खड़ा रहना चाहिए और उनका हौंसला अफजाई करनी चाहिए’। श्री शर्मा ने दिल्ली में दंगों के दौरान टैक्सी स्टैंड में खड़ी सैंकड़ों टैक्सियों को वाजपेयी के प्रयासों से जलने से बचाने का वाक्यात भी सुनाया। उन्होंने बताया कि वाजपेयी हमेशा कहते थे,‘देश पहले, पार्टी दूसरे व आदमी तीसरे’ स्थान पर है। उन्होंने बताया कि वाजपेयी जी द्वारा उनके जेल में रहते हुए मन के जज़बातों को कविता में पिरोया गया ,जो कि उनके दृढ़ संकल्प व हौंसलों को दर्शाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!